त्रिशूल की ऊर्जा

ऊर्जा से आपका क्या अभिप्राय है?

 

प्रत्येक व्यक्ति को इस शब्द की एक अलग धारणा है। शिव के लिए, ऊर्जा शक्ति है। अब, फिर से एक ऐसी तस्वीर न बनाएं जो शक्ति स्त्रैण हो। यह न तो स्त्रीलिंग है और न ही पुल्लिंग। इसका अर्थ है किसी व्यक्ति के भीतर शक्ति, ड्राइव और बल।

क्या इसकी कोई सीमा या आयाम है? नहीं, यह अनंत और असीम नहीं है। वो कैसे संभव है? यह वास्तव में संभव है जब आपको पता चलता है कि हम सभी बहुत कसकर जुड़े हुए हैं। मैं सब हूँ और सब मैं हूँ। क्वांटम भौतिकी वैज्ञानिक रूप से सिद्ध होती है। लेकिन यह लेख अनंत ऊर्जा के बारे में नहीं है। यह ऊर्जाओं के संतुलन के बारे में है।

पहले हम ऊर्जा पर चर्चा क्यों नहीं कर रहे हैं?

 

 क्या हम विषय से भटक नहीं रहे हैं? वास्तव में हां, हम विचलन कर रहे हैं लेकिन इसका एक आवश्यक विचलन है क्योंकि उपकरण क्या है और यह कैसा दिखता है, इससे चकित होने से पहले, किसी को यह जानना चाहिए कि उपकरण कैसे काम करता है, उपकरण किस प्रकार की आवश्यकता और सकारात्मक आवश्यकताओं को पूरा करता है, ताकि इसका उपयोग समझदारी से किया जा सके ।

पृथ्वी पर सब कुछ के लिए, उस चीज़ को संतुलित करने के लिए एक समकक्ष है। प्रकृति ऐसे उदाहरणों से भरी पड़ी है। उदाहरण के लिए, गुरुत्वाकर्षण हमें नीचे खींचता है, लेकिन पृथ्वी के घूमने के कारण केन्द्रापसारक बल हमें स्थिर महसूस कराता है। हमारे पास पुरुष और महिला हैं, रात और दिन, अच्छे और बुरे, खुशी और दुख, सुख और दर्द। हमें पहले संतुलन के लिए दूसरे की जरूरत है। दूसरे के बिना किसी का कोई महत्व नहीं होगा। संतुलन के लिए हर जगह विरोधी ऊर्जाओं को एकजुट कर रहे हैं।

शिव जीवन के इस स्वरूप का प्रतिनिधित्व करते हैं यानी हर चीज में संतुलन। वह दोनों एक तपस्वी है, जो अभी भी एक महासागर की तरह शांत है, और एक नर्तक, जिसका परमानंद ब्रह्मांड को हिला सकता है। वह रचनाकार होने के साथ-साथ विध्वंसक भी है।

 

शिव का त्रिशूल इच्छाशक्ति, कार्य और ज्ञान का प्रतिनिधित्व करता है। जो केवल इच्छा करता है और विश्लेषण करता है और कुछ भी नहीं करता है, उसके विचार कभी भी परिणामों में परिवर्तित नहीं होते हैं। जो इसके बारे में सोचे बिना कुछ भी करता है, ऐसे कार्यों से अवांछित परिणाम निकलते हैं। किसी को पता होना चाहिए कि कब सोचना है और कब कार्य करने का सही समय है। या जब हमें बिना सोचे-समझे कार्य करना चाहिए। लेकिन इसके लिए बहुत ज्ञान चाहिए, जो ज्ञान से आता है। यह त्रयी 'शेष' शब्द की एक और महत्वपूर्ण समझ है।